मंदसौर आन्दोलन मे पीडित किसानो से मिलने पहुँचे कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया , पुलिस ने लिया हिरासत मे

 एनएनआई (मध्य प्रदेश)   मध्य प्रदेश के मंदसौर में पुलिस फ़ायरिंग में पांच किसानों की मौत पर राजनीति थमने का नाम नहीं ले रही. कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया मंदसौर पहुंच गए हैं. उन्हें पुलिस रोका और उसके बाद भी वह आगे जाने की कोशिश करते रहे. पुलिस ने बाद में उन्हें हिरासत में ले लिया. वो पीड़ित किसानों से मिलने पहुंचे थे. वहीं मध्य प्रदेश सरकार ने कहा है कि कांग्रेस को किसानों को लेकर सियासत बंद चाहिए. जानकारी के लिए  बता दें कि वहां पर धारा 144 लगी हुई है. 

कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने एमपी के सीएम शिवराज सिंह चौहान के शासनकाल की तुलना हिटलरशाही से की। सिंधिया ने कहा कि मंदसौर में पुलिस गोलीबारी में पांच लोगों की मौत शिवराज सिंह चौहान नीत सरकार के माथे का कलंक है। उन्होंने कहा कि ऐसा लगता है कि सूबे में हिटलरशाही चल रही है। सिंधिया ने इंदौर प्रेस क्लब में कहा, 'उपज के सही दाम और कर्ज माफी की जायज मांगों को लेकर मंदसौर में प्रदर्शन कर रहे किसानों पर पुलिस गोलीबारी से पांच लोगों की मौत शिवराज सरकार के माथे का कलंक है। ऐसा लगता है कि सूबे में हिटलरशाही चल रही है। शिवराज सरकार को सत्ता में रहने का कोई हक नहीं है।' 

वरिष्ठ कांग्रेस नेता ने दावा किया कि पुलिस ने करीब 700 आंदोलनकारी किसानों को 'असामाजिक तत्व' बताते हुए उन पर आपराधिक मामले दर्ज कर लिए। आंदोलनकारी किसानों पर गोली चलाने का आदेश देने वाले पुलिस अधिकारियों पर अब तक कोई मामला दर्ज नहीं किया गया। उन्होंने कहा, 'खाकी वर्दी पहनने वाले पुलिस वालों को खुद को ईश्वर नहीं समझना चाहिये।' सिंधिया ने बीजेपी के इस आरोप को खारिज किया कि कांग्रेस ने सियासी रोटियां सेंकने के लिये सूबे के आंदोलनकारी किसानों को भड़काकर हिंसा की आग को हवा दी।